रात के समय महसूस होता है ऐसा, तो हो सकता है कैंसर खतरा

रात के समय महसूस होता है ऐसा, तो हो सकता है कैंसर खतरा

कैंसर एक ऐसी जानलेवा बीमारी है, जिसका नाम सुनकर ही लोग सहम जाते हैं. अनहेल्दी लाइफस्टाइल के चलते दुनियाभर के लोग तेजी से इस खतरनाक बीमारी की चपेट में आ रहे हैं. शुरुआत में अगर इस बीमारी का इलाज न किया जाए तो व्यक्ति की जान को भी खतरा हो सकता है.
नेशनल हेल्थ सर्विस की रिपोर्ट के मुताबिक, 3 लोगों में कम से कम एक व्यक्ति को उनके जीवन में एक बार कैंसर होने का खतरा बना रहता है. रिपोर्ट के मुताबिक, U.K में ब्रेस्ट कैंसर, फेफड़ों का कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और पेट का कैंसर सबसे आम हैं.

कैंसर 200 से अधिक प्रकार के होते हैं, जिनके लक्षण भी एक दूसरे से काफी अलग होते हैं. हालांकि, कई बार कैंसर के लक्षण शुरुआती समय में सामने नहीं आते हैं. लेकिन कई लक्षण ऐसे होते हैं, जिनकी जानकारी न होने की वजह से लोग उसे पहचान नहीं पाते हैं.
U.K की कैंसर रिसर्च के मुताबिक, रात के समय अगर बहुत ज्यादा पसीना आता है तो ये कैंसर का लक्षण हो सकता है. हालांकि, कम ही लोगों में ये लक्षण दिखाई देता है.

कैंसर रिसर्च के मुताबिक, इंफेक्शन या किसी दवाई के साइड इफेक्ट की वजह से भी अक्सर रात के समय अधिक पसीना आ सकता है. महिलाओं में कई बार मेनोपॉज के बाद पसीना आने की समस्या बढ़ जाती है.
लेकिन अगर अक्सर ही आपको रात के समय बहुत ज्यादा पसीना आता है, तो इसे बिल्कुल भी नजरअंदाज न करें, क्योंकि ये कैंसर का एक संकेत हो सकता है.

कैंसर रिसर्च ने सलाह देते हुए कहा कि जिन लोगों को ये समस्या है वो अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें.
कैंसर चैरिटी के मुताबिक, रात में अधिक पसीना आने का संबंध नॉन-होजकिंग और होजकिंग लिम्फोमा, कार्सिनॉयड, ल्यूकेमिया, मेसोथेलियोमा, हड्डियों का कैंसर और लिवर कैंसर से होता है.
बता दें, नॉन-होजकिन और होजकिंग लिम्फोमा कैंसर व्यक्ति के लिम्फेटिक सिस्टम में बनता है. गर्दन, बांह में सूजन भी इन दो कैंसर के लक्षण हो सकते हैं.
कार्सिनॉयड कैंसर धीरे-धीरे शरीर के किसी भी हिस्से में फैल जाता है. शरीर के जिस हिस्से में ये कैंसर होता है, इसके लक्षण भी उसी पर निर्भर करते हैं.

ल्यूकेमिया कैंसर- इस कैंसर में सफेद रक्त कोशिकाएं प्रभावित होती हैं. इस कैंसर में स्किन पीली पड़ जाती है. थकान महसूस होती है. सांस लेने में परेशानी होती है. समय-समय पर बुखार आने लगता है. वजन घटने लगता है. हड्डियों और जोड़ों में दर्द होता है.

आपको अगर अपनी सेहत और शरीर में कोई भी बदलाव दिखाई देते हैं तो अपने डॉक्टर से जरूर संपर्क करें.
Source - Aaj Tak

बच्चे को कैंसर से बचा सकती है ब्रोकोली, जानें कब खाएं

बच्चे को कैंसर से बचा सकती है ब्रोकोली, जानें कब खाएं

गर्भावस्था में ब्रोकोली खाना खासा फायदेमंद साबित हो सकता है. इसके गर्भस्थ शिशु के कैंसर का शिकार होने की आशंका घट जाती है. बर्मिंघम की अलबामा यूनिवर्सिटी के अपने एक स्टडी रिपोर्ट में यह दावा किया गया है.

दरअसल, ब्रोकोली में glucoraphenin तत्व अधिक मात्रा में पाया जाता है. यह कैंसर कोशिकाओं से लड़ने की अद्भुत क्षमता रखता है. ब्रोकली में sulforaphane नामक खास यौगिक भी होता है. यह पाचन तंत्र में आइसोथायोसाइनेट में बदल जाता है, जो कैंसर कोशिकाओं के विभाजन को बढ़ावा देने वाले जीन को निष्क्रिय करता है.
पहले भी हो चुके हैं रिसर्च

इससे पहले भी अमेरिका की ऑरेगन स्टेट यूनिवर्सिटी (ओएसयू) और ऑरेगन हेल्थ एंड साइंस यूनिवर्सिटी के शोधार्थियों ने एक अध्ययन में सुझाव दिया था कि ब्रोकोली और क्रूसीफेरस सब्जियों से प्राप्त होने वाले sulforaphane (यौगिक) में लंबे समय तक कैंसर की रोकथाम वाले सबूत मिले हैं. इसलिए सल्फोराफेन कैंसर वृद्धि को कम करने में मददगार हो सकता है.
ओएसयू कॉलेज ऑफ पब्लिक हेल्थ एंड ह्यूमन साइंसेज की प्रोफेसर एमिली हो ने बताया था कि अध्ययन के बाद महिलाओं की जांच में हम यह देखकर चकित हो गए थे कि इस यौगिक के द्वारा उन असाधारण चिन्हों में कमी आई थी. इसका तात्पर्य है कि यह यौगिक कैंसर वृद्धि को कम कर सकते हैं.
पहले हुए अध्ययनों में भी बताया गया है कि क्रूसीफेरस सब्जियां जैसे ब्रोकोली, गोभी या फूलगोभी का सेवन स्तन कैंसर के खतरे को कम करता है. इसलिए प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को चाहिए वे अपने खान-पान में ब्रोकोली जरूर शामिल करें.
Source - Pakwan Gali

इजरायली वैज्ञानिकों का दावा, एक साल के भीतर ढूंढ लेंगे कैंसर का इलाज

इजरायली वैज्ञानिकों का दावा, एक साल के भीतर ढूंढ लेंगे कैंसर का इलाज

एक इजरायली फार्मा कंपनी ने दावा किया है कि उसके पास एक साल के भीतर कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी को जड़ से खत्म करने का इलाज मौजूद होगा.
एक्सीलरेटेड एवॉल्यूशन बायोटेक्नॉलजीस (AEBi) नाम की कंपनी ने कैंसर का इलाज ढूंढ निकालने की बात कही है. इस कंपनी के बोर्ड चेयरमैन डैन एरिडोर ने कहा कि कैंसर का पूरी तरह से इलाज जल्द ही संभव होगा.
कंपनी के बोर्ड चेयरमैन एरिडोर ने द जेरुसलम पोस्ट को बताया, "हमारा कैंसर का इलाज पहले दिन से ही प्रभावी होगा और यह कुछ हफ्तों तक चलेगा. इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं होगा और बाजार में मौजूद दूसरे ट्रीटमेंट की तुलना में काफी सस्ता होगा. हमारा ट्रीटमेंट जेनरिक और पर्सनल दोनों होगा."
द जेरूसलम पोस्ट के मुताबिक, AEBi के कैंसर के इलाज को MuTaTo नाम दिया गया है जिसका अर्थ 'मल्टी टार्गेट टॉक्सिन' है. कंपनी का कहना है कि इस ट्रीटमेंट में कई पेप्टाइड्स एक साथ कैंसर कोशिकाओं पर हमला कर उन्हें खत्म कर देंगे. ये पेप्टाइड्स अमीनो एसिड की श्रृंखला के कंपाउंड होंगे. कई स्तरों पर कैंसर कोशिकाओं पर होने वाला यह हमला ही इलाज को असरदार बनाएगा.
AEBi CEO इलान मोराड ने बताया, हमने यह भी सुनिश्चित किया है कि कैंसर का इलाज म्यूटेशन से प्रभावित ना होने पाए, कैंसर कोशिकाएं इस तरीके से म्यूटेट हो सकती हैं कि टार्गेट किए गए रिसेप्टर्स कैंसर से बच जाएं. हम एक बार में रिसेप्टर्स पर एक हमला करने के बजाय एक बार में तीन अटैक करेंगे. यहां तक कि कैंसर भी एक बार में तीन रिसेप्टर्स को म्यूटेट नहीं कर सकता है."
मोराड ने दावा किया कि AEBi ने अपने कैंसर ट्रीटमेंट का प्रयोग चूहों में किया और इस प्रक्रिया में चूहों की स्वस्थ कोशिकाओं को बिल्कुल नुकसान नहीं पहुंचा. कंपनी ने कई in-vitro ट्रायल पूरे कर लिए हैं और जल्द ही इसका क्लीनिकल ट्रायल शुरू हो जाएगा. AEBi के CEO ने कहा कि ये परीक्षण कुछ सालों के भीतर ही पूरे हो जाएंगे और कुछ खास कैंसर मामलों के लिए जल्द उपलब्ध भी होंगे.
इजरायली कंपनी ने दावे तो बहुत किए हैं लेकिन किसी ऐसी रिसर्च का जिक्र नहीं किया है जिससे उनके दावे की पुष्टि हो सके. हालांकि, AEBi ने जिस तरह के ट्रीटमेंट का दावा किया है, वह वाकई अनोखा है. दुनिया भर में होने वाली मौतों में कैंसर दूसरी सबसे बड़ी वजह है इसलिए कैंसर के इलाज का मेडिकल दुनिया बेसब्री से इंतजार कर रही है.
Source - Aaj Tak

सर्दियों में हीटर के सामने बैठना हो सकता है खतरनाक, रहें सावधान

सर्दियों में हीटर के सामने बैठना हो सकता है खतरनाक, रहें सावधान

सर्दी का कहर जारी है. सर्दियों के मौसम में ठंड से बचने के लिए लोग अक्सर रूम हीटर का सहारा लेते हैं. सर्दियों में सर्द हवाओं के बीच हीटर के आगे बैठने का एहसास ही लोगों के मन को खुश कर देता है. हम से अधिकतर लोग तो हीटर जलाकर ही सोते हैं. अगर आप भी सर्दी से बचने के लिए अपने घरों में हीटर जलाते हैं तो ये खबर आपको निराश कर सकती है आइए जानते हैं क्यों...
रूम हीटर से सेहत को होते हैं ये नुकसान-
1. आप जब घर के अंदर हीटर जलाते हैं, तो इससे निकलने वाली हवा आपके आस-पास के पर्यावरण से मॉइस्चर को खत्म कर देती है. हवा ड्राई होने के कारण इससे स्किन में खिंचाव और एलर्जी होने का खतरा अधिक रहता है.
2. बच्चों की स्किन बहुत ज्यादा कोमल होती है. हीटर से निकलने वाली ड्राई एयर बच्चों की नाजुक स्किन को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाती है. कई बार इससे बच्चों को जलने का खतरा भी रहता है.
3. सभी जानते हैं कि रूम हीटर हवा से मॉइस्चर को खत्म कर देता है, जिससे हवा ड्राई हो जाती है. इससे सांस संबंधी मरीजों को सांस लेने में दिक्कत हो सकती है. इसलिए जिन लोगों को अस्थमा या स्किन संबंधी कोई भी बीमारी हो, वे हीटर के इस्तेमाल से बचने की कोशिश करें.
4. हीटर के आगे बैठने के बाद रूम से बाहर निकलने पर शरीर के तापमान में तेजी से बदलाव होने लगते हैं. ये बदलाव व्यक्ति को कई बीमारियों का शिकार बना सकते हैं.
5. लंबे समय तक हीटर के सामने बैठे रहने से शरीर को जलने का भी खतरा रहता है. स्किन संबंधी कई बीमारियां हो सकती हैं.
Source - Aaj Tak

अलसी का काढ़ा पीना है बहुत सेहतमंद, जानिए कैसे


सेहतमंद रहने के लिए अच्छा और संतुलित खान-पान बहुत जरूरी है. अच्छा खान-पान यानी दाल, सब्जी, फ्रूट्स, बीज आदि सभी चीजों को खाने में शामिल करना चाहिए. ऐसे ही बीजों में से एक है अलसी के बीज. अलसी में भरपूर मात्रा में विटामिंस, मिनरल्स, फाइबर, ओमेगा 3 फैटी एसिड आदि शामिल होता है. आइए जानते हैं क्या है अलसी का काढ़ा बनाने का तरीका और इसे पीने के फायदे.

दर्द से यूं पाएं छुटकारा


दर्द से यूं पाएं छुटकारा

सेंक के लिए सादा गर्म पानी, नमक, कपूर या तारपीन के तेल मिले गर्म पानी से स्नान करना फ़ायदेमंद रहता है. यह सेंक दवा या मरहम लगाने के बाद ही करना चाहिए. सेंक करने से रक्तवाहिनियां फैल जाती हैं और प्रकुपित तंत्रिकाएं शांत हो जाती हैं. इस प्रकार हमारे शरीर का दर्द शांत हो जाता है. इसके अलावा यहां पर हम कुछ उपयोगी घरेलू नुस्ख़े दे रहे हैं, जिनके प्रयोग से तमाम तरह के दर्द से राहत मिलती है.

Our Nutritionist Is Following These New Year Resolutions For A Healthier 2019; Find Out What These Are


Our Nutritionist Is Following These New Year Resolutions For A Healthier 2019; Find Out What These 

Are

1. Sleep early:

This is possibly the most overlooked aspect of health. Sleeping early is NOT 'uncool'. Adequate sleep is essential for rest and recovery. To be able to sleep early, put away your mobile phones, other gadgets and turn off your television sets half an hour before your stipulated bed time. Try to get 7-8 hours of uninterrupted sleep.

2. Exercise regularly:

This one has been said infinite number of times, yet it's worth repeating. It's more worthwhile to maintain regularity rather than starting over-zealously and falling out soon.

3. Staircase instead of lift:

Use the staircase instead of the elevator, walk to your destination whenever possible.

4. Eat whole, natural foods, choose local & seasonal produce:

Patronise the farmers, not the food industry. So skip the ready-to-eat, processedand packaged convenience foods as there are numerous health hazards involved.

5. Eat small & frequent meals:

Plan ahead for 3 main meals and atleast 3 small mid-meals or snacks. Carrying your meals and snacks when you head out of home is smart, and NOT 'uncool'.

6. Include 5-7 servings of fruits & veggies a day:

Include as many colours as you can, make sure they are local and seasonal.

7. Learn to recognize hunger & fullness signals:

So you will be able to avoid both extremes - starvation and overeating. It's an essential life skill to learn for good health.

8. Limit alcohol intake:

It's not healthy for any organ, in any quantity. When you are drinking wine, know that you are drinking for the sheer pleasure of drinking, and not for your heart health.

9. Quit smoking:

You are not only risking your own self, but also your near and dear ones who end up smoking passively. Use the progressive approach by reducing the numbers gradually.

10. Minimize use of plastics:

Plastics not only pollute the environment but also wreak havoc on female hormones.

11. Embrace zero waste cooking:

Try to use all parts like leaves, stem, roots etc to prepare soups, broths, vegetable stock. When we use only one plant part and discard the rest, we end up wasting tremendous amount of valuable nutrients.
12. Set weekly targets:

Set weekly targets for exercise, alcohol, cigarette cessation, weight loss, inch loss etc. Maintain a log to chart your progress. Don't forget to assess non scale victories like better energy, better endurance, improved sleep quality, fewer cravings, feel healthier and clothes fit better.
Lastly do not step onto the weighing scale every day. It never helps anyone. Infact, the stress and anxiety it causes is detrimental to good health. So keep your focus right, set your priorities, don't fall into the trap of fad diets for quick weight loss, and most importantly enjoy the journey.
Source - NDTV


World AIDS Day 2018: 4 Reasons Which Stop People From HIV Testing


December 1 is observed as World AIDS Day. This day is meant to raise awareness about HIV/AIDS, a disease which destroys the immune system and makes the body prone to various diseases and infections. The idea behind World AIDS Day 2018 is to show solidarity towards all the people who are living with AIDS and also remember those who died because of AIDS. The theme of World AIDS Day 2018 is "Know Your Status", which stresses on the importance of knowing one's HIV status in order to fight against the disease. The theme is important because 9.4 million people across the world are unaware that they are HIV positive, UNAIDS reports. This is primarily because there are various stigmas around HIV testing.

इम्यून सिस्टम बनेगा मजबूत, अपनाएं ये टिप्स


स्वस्थ रहने के लिए इम्यून सिस्टम का मजबूत होना बेहद जरूरी होता है. अगर आप अक्सर बीमार रहते हैं और खासतौर पर मौसम में बदलाव आने पर आप सर्दी-जुकाम आदि से ग्रस्त हो जाते हैं तो इसका एकमात्र कारण है इम्यून सिस्टम का कमजोर होना.

इम्यून सिस्टम के कमजोर होने से बीमारियां तुरंत जकड़ लेती है और यूं कहें कि जीवाणु आपके शरीर पर हमला कर बैठते हैं. ऐसे में बहुत जरूरत होता है एक संतुलित आहार लेने की. आइए हम बताते हैं कि आप क्या करें अपने खाने में शामिल जिससे मजबूत बने आपका इम्यून सिस्टम.

M1

Custom Search

A News Center Of Health News By Information Center